इन्दिरा गाँधी राष्ट्रीय मुक्त विवि क्षेत्रीय केन्द्र लखनऊ द्वारा शिक्षक अभिभावक मिलन का आन लाइन अनूठा और अभिनव प्रयोग किया गया

1 min read

इन्दिरा गाँधी राष्ट्रीय मुक्त विवि क्षेत्रीय केन्द्र लखनऊ द्वारा शिक्षक अभिभावक मिलन का आन लाइन अनूठा और अभिनव प्रयोग किया गया

कलम हिन्दुस्तानी
हशम नकवी

सीतापुर। क्षेत्रीय निदेशक डाक्टर मनोरमा सिंह की नवोन्मेषी सोच तथा नई पहल करने में अग्रणी रहने वाले सहायक निदेशक डाक्टर कीर्ति विक्रम सिंह ने इस सोच को अमली जामा पहनाया।इस अवसर पर इग़्नु के माध्यम से विभिन्न पाठ्यक्रमों शिक्षा ग्रहण कर रहे विद्यार्थियों के अभिभावकों से शिक्षकों का वार्तालाप हुआ।अनेक अभिभावकों ने इग़्नु के बारे में अपनी धारणा से अवगत कराया।अभिभावकों का कहना था कि इग़्नु एक ऐसा प्लेटफ़ोर्म है जहाँ बच्चे और अभिभावक एक साथ शिक्षा ग्रहण कर सकते हैं।अनेक अभिभावकों ने करोना काल में भी आन लाइन शिक्षण की व्यवस्था करने पर अपनी सन्तुष्टि व्यक्त की।आयोजन की अध्यक्ष डाक्टर मनोरमा सिंह ने अतिथियों तथा अभिभावकों का आभार व्यक्त किया उन्होंने कहा कि इग़्नु समाज के सुदूर और वंचित तबके में पहुँच रहा है और समाज के विभिन्न लोगों तथा स्वयमसेवी संस्थाओं तथा कालेजों का सहयोग निरन्तर मिल रहा है।
आयोजन सचिव डाक्टर कीर्ति विक्रम सिंह ने भी अभिभावको और गणमान्य अतिथियों का आभार व्यक्त किया ।उन्होंने कहा कि इग़्नु निरन्तर अपने लक्ष्यों को पूरा क़रने के लिए प्रयासरत है।करोना काल में भी आन लाइन शिक्षण की व्यवस्था की गई है तथा विद्यार्थियों के साथ निरन्तर समन्वय रखा जाता है अभिभावक शिक्षक मिलन भी उसी समन्वय की दिशा में एक कदम है।उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम के माध्यम से जो भी सुझाव प्राप्त होंगे उन पर विचार किया जायेगा।इगनु द्वारा जो भी नये कार्यक्रम या योजनाएँ शुरू की गई है उनकी भी जानकारी इस माध्यम से मिली है।
इस सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में उत्तर प्रदेश युवा कल्याण परिषद के उपाध्यक्ष श्री बी सी कौशिक मौजूद रहे।उन्होंने कहा कि इस प्रकार के सम्मेलनों से जो फ़ीड बैक मिलता है वो अत्यन्त मूल्यवान होता है उसी के आधार पर सरकारें योजनाएँ बनाती हैं।उन्होंने युवाओं के लिये सरकार द्वारा चलाई जा रही अनेक योजनाओं के बारे में विस्तार से बताया।
विशिष्ट अतिथि तथा समाजशास्त्री एवं राज्य वन्य किए बोर्ड के सदस्य डाक्टर अनूप कुमार सिंह ने कहा क़ि इग़्नु ने ये सिद्ध कर दिया है कि वो जन जन का विश्वविद्यालय है।उन्होंने कहा कि जो हम सोचते हैं वो कोर्स इग़्नु शुरू कर देता है ।इग़नु स्वरोज़गार से भी जोड़ने का कार्य करता है ये महिलाओं को सशक्त भी बनाता है।
विषय प्रवर्तन मनोवैज्ञानिक नेहाश्री श्रीवास्तव ने किया। सम्मेलन को शिव नाडर फ़ाउंडेसन से जुड़ी प्रीति शाह प्राचार्य रामकृपाल शुक्ला दूरदर्शन से जुड़े मुकेश कुमार डाक्टर क्रान्ति सिंह सपन अस्थाना प्रभात शुक्ला तथा दीपक कुमार ने भी सम्बोधित किया।
धन्यवाद ज्ञापन डाक्टर कीर्ति विक्रम सिंह ने किया।इस अवसर पर बड़ी संख्या में छात्र अभिभावक और शिक्षक मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *